NCERT Class 10th science Chapter 1 Notes 2021-22 | रासायनिक अभिक्रियाएँ और समीकरण

NCERT Class 10th science Chapter 1 Notes 2021-22

रासायनिक अभिक्रियाएँ और समीकरण (Chemical Reactions and Equations)

Class 10 Science Handwritten Notes PDF: आपको यहां Science के Handwritten Notes मिलेंगे। परीक्षा में, आपको पाठ्यक्रम से बाहर के प्रश्न मिलेंगे, और यह निश्चित है कि पेपर कहाँ से आता है। आखिरी समय में, जब आपकी परीक्षाएं नजदीक हैं, तो आप कहां पर जाएंगे

Join Telegram

आप ऐसे Class 10 Science Handwritten Notes PDF ढुंड रहे हैं जो ठीक से लिखे गए हों, अच्छे उदाहरणों के साथ तो आप सही जगह पर हैं। 10वीं कक्षा में पढ़ना कोई मज़ाक नहीं है, आप न केवल नोट्स ढूँढ़ने में अपना समय बर्बाद कर सकते हैं और वह भी तब जब आपकी परीक्षाएँ नज़दीक हों। हमारे पास Class 10 Science Handwritten Notes PDF हैं जो बहुत अच्छी तरह से लिखे गए हैं और परीक्षा में अच्छे अंक प्राप्त करने के लिए आवश्यक हैं। साथ ही कक्षा 10th विज्ञान के महत्वपूर्ण प्रश्न आप यहाँ आसानी से प्राप्त कर सकते हैं।

Class 10 Science Handwritten Notes PDF Download

आपके समय के महत्व को ध्यान में रखते हुए, हम इसे यथासंभव सरल और समझने योग्य बनाने का प्रयास करेंगे। पिछले वर्षों के प्रश्न पत्रों को देखते हुए हम Notes को आसान बनाने की कोशिश करेंगे। ताकि आप उन्हें समझने में अपना समय बर्बाद न करें। अगर पैटर्न या सिलेबस में कोई बदलाव होता है तो हम इस पर विचार करेंगे और फिर नोट्स बनाएंगे। हमारे शिक्षा विशेषज्ञ एक बार इन नोट्स को देखें और फिर वेबसाइट पर लिंक अपलोड करें। हम पिछले 10 वर्षों के सभी प्रश्नपत्रों का अच्छी तरह से अध्ययन करेंगे और फिर छात्रों के लिए साफ-सुथरे नोट्स तैयार करेंगे। जिसे आप निचे दिये गये लिंक से Class 10 Science Handwritten Notes PDF Download कर सकते है।

रसायनिक परिवर्तन को भी रसायनिक अभिक्रिया (Chemical Reactions and Equations) कहा जाता है |
रसायनिक अभिक्रिया के दो भाग होते है – (1) अभिकारक (2) उत्पाद

वे पदार्थ जिनमे रसायनिक अभिक्रिया के द्वारा रसायनिक परिवर्तन होता है अभिकारक कहलाते है |
अभिक्रिया के दौरान नए बनने वाले पदार्थ उत्पाद कहलाते है |

शब्द-समीकरण में अभिकारकों के उत्पाद में परिवर्तन को उनके मध्य एक तीर का निशान लगाकर दर्शाया जाता है |
तीर का सिरा उत्पाद की ओर इंगित करता है और अभिक्रिया होने की दिशा को दर्शाता है |

अभिकारकों के बीच योग (+) का चिन्ह लगाकर उन्हें बाई ओर (LHS) लिखा जाता है | इसी प्रकार उत्पादों के बीच भी योग (+) चिन्ह लगाकर उन्हें दाई ओर (RHS) लिखा जाता है |

शब्दों की जगह रसायनिक सूत्र का उपयोग करके रसायनिक समीकरणों को अधिक संक्षिप्त और उपयोगी बनाया जा सकता है |
एक रसायनिक समीकरण एक रसायनिक अभिक्रिया का प्रतिनिधित्व करता है|

प्रत्येक तत्व के परमाणुओं की संख्या तीर के दोनों ओर सामान होते है |
असंतुलित रसायनिक समीकरण को कंकाली समीकरण कहते है |
द्रव्यमान संरक्षण के नियम को संतुष्ट करने के लिए रसायनिक समीकरण को संतुलित किया जाता है |



द्रव्यमान संरक्षण के नियम (law of conservation of mass)

किसी भी रसायनिक अभिक्रिया में द्रव्यमान का ना तो सृजन होता है ना ही विनाश होता है |
किसी भी रसायनिक अभिक्रिया के उत्पाद तत्वों का कुल द्रव्यमान अभिकारक तत्वों के कुल द्रव्यमान के बराबर होता है |
रसायनिक अभिक्रिया के बाद और रसायनिक अभिक्रिया के पहले प्रत्येक तत्व के परमाणुओं की संख्या समान रहती है |
कंकाली समीकरण को Hit and trial method or inspecting method के उपयोग से संतुलित किया जा सकता है |

संयोजन अभिक्रिया, वियोजन अभिक्रिया, विस्थापन अभिक्रिया, द्वि-विस्थापन अभिक्रिया, उपचयन और अपचयन ये सभी रसायनिक अभिक्रिया के प्रकार है |

संक्षारण और विकृत-गंधिता उपचयन अभिक्रिया के प्रभाव के कारण होते है |
एक सम्पूर्ण रसायनिक अभिक्रिया अभिकारक, उत्पाद और उनके भौतिक दशाओं को संकेतों में दर्शाता है |
संयोजन अभिक्रिया में दो या दो से अधिक पदार्थ मिलकर एक एकल नया उत्पाद बनाते है |

जिस अभिक्रिया में ऊर्जा का अवशोषण होता है वह ऊष्माशोषी अभिक्रिया कहलाती है |

अवक्षेपण अभिक्रियायें अघुलनशील लवणों का उत्पादन करती है |

द्वि-विस्थापन अभिक्रिया में दो भिन्न अणुओं या अणुओं के समूहों में बीच आयनों (ions) का अदान-प्रदान होता है |
अभिक्रिया में पदार्थों से ऑक्सीजन या हाइड्रोजन का योग अथवा ह्रास भी होता है

|
ऑक्सीजन का योग अथवा हाइड्रोजन का ह्रास आक्सीकरण या उपचयन कहलाता है |

ऑक्सीजन का ह्रास अथवा हाइड्रोजन का योग अपचयन कहलाता है |

जब कोई तत्व किसी यौगिक से किसी दुसरे तत्व को विस्थापित करता है तो विस्थापन अभिक्रिया होती है |

विस्थापन अभिक्रिया में एक अधिक अभिक्रियाशील तत्व कम अभिक्रियाशील पदार्थ को विस्थापित कर देता है | जैसे आयरन जिंक और कॉपर को विस्थापित कर देता है क्योंकि आयरन जिंक और कॉपर से अधिक अभिक्रियाशील है |

द्वि-विस्थापन अभिक्रिया में आयनों का आदान-प्रदान होता है |
हमारे भोजन में ऑक्सीजन के वृद्धि से भोजन का उपचयन तेजी से होता है जिससे वह विकृत-गंधित हो जाता है |
विकृत-गंधित पदार्थों का गंध और स्वाद बदल जाता है |

Download Chemical Reactions and Equations Notes


Join Telegram